कैलिब्रेशन क्या है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

Calibration Hindi

Calibration in Hindi-

What is Calibration in Hindi?

इंस्ट्रूमेंट की सटीकता को बनाए रखने के लिए उपयोग किए जाने वाले प्राथमिक प्रक्रियाओं में से एक इंस्ट्रूमेंट कैलिब्रेशन है। Calibration एक स्वीकार्य सीमा के भीतर एक सैंपल के रिज़ल्‍ट को प्रदान करने के लिए इंस्ट्रूमेंट को कॉन्फ़िगर करने की प्रक्रिया है।

ऐसे फैक्‍टर को खत्म करना या कम करना जो गलत माप का कारण बनते हैं, इंस्ट्रूमेंटेशन डिज़ाइन का एक मूलभूत पहलू है।

यह सुनिश्चित करता है कि जो इंस्ट्रूमेंट परीक्षण के लिए उपयोग किया जाता है वह आवश्यक माप पैरामीटर को इंडिकेट करता है और यह कि इंस्ट्रूमेंट अपने स्पेसिफिकेशन पर परफॉर्मे कर रहा है।

यद्यपि सटीक प्रक्रिया उत्पाद से उत्पाद में भिन्न हो सकती है, कैलिब्रेशन प्रक्रिया में आम तौर पर “कैलिब्रेटर्स” नामक एक या अधिक ज्ञात मूल्यों के नमूनों का परीक्षण करने के लिए इंस्ट्रूमेंट का उपयोग करना शामिल होता है। परिणाम का उपयोग साधन द्वारा मापी गई तकनीक के बीच संबंध स्थापित करने के लिए किया जाता है।

संक्षेप में यह प्रोसेस इंस्ट्रूमेंट को “सिखाता है” की कैसे रिज़ल्‍ट को प्रोडयूस किया जाए, जो की तुलना में अधिक सटीक होते हैं।

इंस्ट्रूमेंट तब अधिक सटीक परिणाम प्रदान कर सकता है जब उत्पाद के सामान्य उपयोग में अज्ञात वैल्‍यू के नमूनों का परीक्षण किया जाता है।

इंस्ट्रूमेंट के ऑपरेटिंग रेंज के भीतर विशिष्ट पॉइंट पर सहसंबंध स्थापित करने के लिए केवल कुछ कैलिब्रेटर्स का उपयोग करके कैलिब्रेशन किया जाता है। हालांकि कैलिब्रेशन संबंध या “कर्व” को स्थापित करने के लिए बड़ी संख्या में कैलिब्रेटर्स का उपयोग करना वांछनीय हो सकता है, बड़ी संख्या में कैलिब्रेटर्स की तैयारी और परीक्षण के साथ जुड़ा समय और श्रम प्रदर्शन के परिणामस्वरूप स्तर को पछाड़ सकता है।

व्यावहारिक दृष्टिकोण से, प्रॉडक्‍ट परफॉर्मेंस के वांछित स्तर और कैलिब्रेशन को पूरा करने से जुड़े प्रयास के बीच एक ट्रेड ऑफ बनाया जाना चाहिए। इंस्ट्रूमेंटेशन के लिए निर्माता के प्रदर्शन विनिर्देशों में प्रदान किए गए मध्यवर्ती पॉइंट का उपयोग करते समय साधन सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन प्रदान करेगा; निर्दिष्ट प्रक्रिया अनिवार्य रूप से समाप्त हो जाती है, या “शून्य से बाहर”, इन पॉइंट पर निहित साधन त्रुटि।

Calibration एक ज्ञात मेज़रमेंट (स्‍टैंडर्ड) और आपके इंस्ट्रूमेंट का उपयोग करके मेज़रमेंट के बीच एक तुलना है। आमतौर पर, स्‍टैंडर्ड की सटीकता, मापे जा रहे डिवाइस की सटीकता से दस गुना होना होनी चाहिए। हालांकि, अधिकांश स्‍टैंडर्ड ऑर्गनाइज़ेशन द्वारा 3: 1 का एक्यूरेसी रेशो स्वीकार्य है।

सामान्य उपयोग में, कैलिब्रेशन को अक्सर एक निर्धारित मापांक के मूल्य के साथ सहमत होने के लिए माप इंस्ट्रूमेंट पर आउटपुट या संकेत को एडजस्‍ट करने की प्रक्रिया सहित माना जाता है, एक निर्दिष्ट सटीकता के भीतर हालांकि यह वास्तव में दो प्रक्रियाएं हैं: कैलिब्रेशन और एडजस्टमेंट।

इसलिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपको किस सेवा की आवश्यकता है। यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि क्या कैलिब्रेट किया जा रहा है और कैसे कैलिब्रेशन किया जा रहा है। एक उदाहरण के रूप में, एक डिजिटल थर्मामीटर पर विचार करें जो बाहरी तापमान जांच का उपयोग करता है। कई कंपनियां यह जानकर आश्चर्यचकित हैं कि उनका कैलिब्रेशन एक सिम्युलेटेड तापमान वैल्‍यू का उपयोग करके किया जाता है जो केवल थर्मामीटर पर लागू होता है। यहां, डिजिटल थर्मामीटर के लिए एक टेस्‍ट इंस्ट्रूमेंट जुड़ा हुआ है और एक विशिष्ट तापमान के बराबर वोल्टेज को डिजिटल थर्मामीटर पर लागू किया जाता है। फिर परिणाम दर्ज किया जाता है और थर्मामीटर को कैलिब्रेटेड माना जाता है।

आपके मेज़रींग इंस्ट्रूमेंट के कैलिब्रेशन के दो उद्देश्य हैं। यह इंस्ट्रूमेंट की सटीकता की जांच करता है और यह माप की ट्रेसबिलिटी को निर्धारित करता है। व्यवहार में, कैलिब्रेशन में डिवाइस की मरम्मत भी शामिल है यदि यह कैलिब्रेशन से बाहर है।

कैलिब्रेशन विशेषज्ञ द्वारा एक रिपोर्ट प्रदान की जाती है, जो कैलिब्रेशन से पहले और बाद में मेज़रींग इंस्ट्रूमेंट के साथ मेज़रमेंट में एरर को दर्शाता है।

 

Calibration in Hindi-

Importanance of Calibration in Hindi:

कैलिब्रेशन इंस्ट्रूमेंट के एक टुकड़े का उपयोग करके दर्ज की गई सटीकता और गुणवत्ता को परिभाषित करता है। समय के साथ विशेष रूप से प्रौद्योगिकियों का उपयोग करते समय या तापमान और आर्द्रता जैसे विशेष मापदंडों को मापने के लिए परिणाम और सटीकता के लिए ‘बहाव’ की प्रवृत्ति होती है। परिणामों में विश्वास करने के लिए विश्वसनीय, सटीक और दोहराने योग्य माप के लिए अपने पूरे जीवनकाल में उपकरणों के कैलिब्रेशन को बनाए रखने की आवश्यकता है।

कैलिब्रेशन का लक्ष्य टेस्‍ट इक्विपमेंट की सटीकता सुनिश्चित करने के लिए किसी भी मेज़रमेंट अनिश्चितता को कम करना है।

कैलिब्रेशन एक स्वीकार्य स्तर तक माप प्रक्रियाओं के भीतर त्रुटियों या अनिश्चितताओं को निर्धारित करता है और नियंत्रित करता है।

 

Calibration in Hindi-

Instruments Calibration in Hindi:

मापने वाले इंस्ट्रूमेंट का कैलिब्रेशन वह प्रक्रिया है जिसमें इंस्ट्रूमेंट से प्राप्त रीडिंग की तुलना प्रयोगशाला में सब-स्‍टैंडर्ड के साथ इंस्ट्रूमेंट के स्‍केल के साथ कई पॉइंट पर की जाती है।

इंस्ट्रूमेंट और सब- स्‍टैंडर्ड से प्राप्त रीडिंग से प्राप्त परिणामों के अनुसार, वक्र प्लॉट किया जाता है। यदि इंस्ट्रूमेंट सही है, तो इंस्ट्रूमेंट के माप और सब-स्‍टैंडर्ड का मिलान होगा। यदि स्‍टैंडर्ड वैल्‍यू के खिलाफ इंस्ट्रूमेंट से मापा मूल्य का विचलन होता है, तो सही वैल्‍यू देने के लिए इंस्ट्रूमेंट को कैलिब्रेट किया जाता है।

सभी नए उपकरणों को बहुत शुरुआत में कुछ स्‍टैंडर्ड के लिए कैलिब्रेट किया जाता है। नए इंस्ट्रूमेंट के लिए प्रयोगशालाओं में उपलब्ध सब-स्‍टैंडर्ड के अनुसार चिह्नित किए गए जाते हैं, जो विशेष रूप से इस उद्देश्य के लिए हैं।

लंबे समय तक इंस्ट्रूमेंट के निरंतर उपयोग के बाद, कभी-कभी यह अपने कैलिब्रेशन को खो देता है या स्केल विकृत हो जाता है, ऐसे मामलों में साधन को फिर से कैलिब्रेट किया जा सकता है यदि यह अच्छी तरह से दुबारा इस्तेमाल के योग्य स्थिति में है।

भले ही कारखाने के इंस्ट्रूमेंट अच्छी स्थिति में काम कर रहे हों, लेकिन अत्यधिक महत्वपूर्ण मापदंडों की गलत रीडिंग से बचने के लिए उन्हें समय-समय पर कैलिब्रेट करना उचित होता है। यह विशेष रूप से उन कंपनियों में बहुत महत्वपूर्ण है जहां उच्च सटीकता के साथ बहुत अधिक सटीक जॉब बनते हैं।

निर्माता द्वारा निर्दिष्ट नियमित अंतराल पर कुछ स्‍टैंडर्ड स्‍केल, जैसे लंबाई, दबाव, तापमान आदि की माप के लिए सभी एडजस्टमेंट इंस्ट्रूमेंट को कैलिब्रेट किया जाना चाहिए। कैलिब्रेशन की विभिन्न विधियाँ या तकनीकें हैं, जो इस बात पर निर्भर करती हैं कि क्या यह नियमित कैलिब्रेशन है या यदि यह विशेष प्रयोजन के लिए है जहाँ साधनों का अत्यधिक सटीक कैलिब्रेशन वांछित है। कई मामलों में सभी व्यक्तिगत साधनों के लिए कैलिब्रेशन के विभिन्न तरीके लागू होते हैं।

 

कैसे इंस्ट्रूमेंट कैलिब्रेटेड किया जाते हैं?

निर्माता द्वारा निर्दिष्ट नियमित अंतराल पर कुछ स्‍टैंडर्ड स्‍केल के लिए लंबाई, दबाव, तापमान आदि की माप के लिए सभी स्‍केल उपकरणों को कैलिब्रेट किया जाना चाहिए। कैलिब्रेशन की विभिन्न विधियाँ या तकनीकें हैं, जो इस बात पर निर्भर करती हैं कि क्या यह नियमित कैलिब्रेशन है या यदि यह विशेष प्रयोजन के लिए है जहाँ साधनों का अत्यधिक सटीक कैलिब्रेशन वांछित है। कई मामलों में सभी व्यक्तिगत साधनों के लिए कैलिब्रेशन के विभिन्न तरीके लागू होते हैं।

 

Electronic Calibration in Hindi:

इलेक्ट्रॉनिक कैलिब्रेशन में या तो एक विद्युत संकेत को उत्तेजित करना या किसी मास्टर (स्‍टैंडर्ड) इंस्ट्रूमेंट के संबंध में अंशांकित होने वाले इंस्ट्रूमेंट के विद्युत संकेत को मापना शामिल होता है। ज्ञात रेफरेंस स्‍टैंडर्ड का उपयोग कैलिब्रेशन सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है। इन अंतरराष्ट्रीय स्‍टैंडर्ड में अन्य के साथ वोल्ट, वाट्स और एम्परेज शामिल हैं।

 

Procedure of electronic calibration

यह सुनिश्चित करने के लिए इक्विपमेंट कैलिब्रेशन आवश्यक है कि यह उच्च सटीकता पर प्रदर्शन करें। समय के साथ टॉलरेंसेस में थोड़ा बदलाव होता है और इसके के परिणामस्वरूप इंस्ट्रूमेंट के कम प्रदर्शन की संभावना होती है।

टेस्‍ट इक्विपमेंट को इसलिए कैलिब्रेट किया जाना चाहिए जब कैलिब्रेशन अवधि पार होने वाली हो। यह अधिकांश इक्विपमेंट के लिए 6 से 12 महीने तक है।

टेस्‍ट इंस्ट्रूमेंट को नियंत्रित करने का एक अच्छा तरीका यह है कि इसे लेबल किया जाए और उन तिथियों को इंगित किया जाए, जब उन्हें कैलिब्रेट किया गया था और साथ ही यह भी बताया जाए कि अगला कैलिब्रेशन कब होने वाला है।

विभिन्न उपकरणों के इलेक्ट्रॉनिक कैलिब्रेशन की वास्तविक प्रक्रिया इंस्ट्रूमेंट के सोफिस्टिकेशन के लेवल के आधार पर भिन्न होती है। अधिकांश परिष्कृत इंस्ट्रूमेंट विशिष्ट इंस्ट्रूमेंट कैलिब्रेशन प्रक्रियाओं के साथ आते हैं।

 

Pressure Transmitter Calibration In Hindi

प्रेशर ट्रांसमीटर कैलिब्रेशन हिंदी में

ट्रांसमीटरों का उपयोग दबाव और अन्य मापदंडों को मापने के लिए प्रक्रिया उद्योग के वातावरण में किया जाता है। प्लांट संचालक सटीक माप और प्रक्रिया अनुकूलन के लिए इन उपकरणों पर भरोसा करते हैं। इन ट्रांसमीटरों का प्रदर्शन कई फैक्‍टर के कारण समय के साथ कमजोर हो सकता है। जब यह होता है जब उन्हें कैलिब्रेशन की आवश्यकता होती है।

कैलिब्रेशन के दौरान, वर्तमान रीडिंग और स्‍टैंडर्ड सेट रीडिंग के बीच एक तुलना की जाती है। इससे प्लांट संचालकों को रीडिंग में बदलाव का निर्धारण करने और आवश्यक एडजस्‍टमेंट करने में मदद मिलती है।

कैलिब्रेशन प्रक्रिया अपने डिजाइनों के कारण ब्रांडेड प्रेशर ट्रांसमीटरों के प्रकारों में थोड़ा भिन्न हो सकती है। हालाँकि, अपने ट्रांसमीटर को कैलिब्रेट करने से पहले कुछ सामान्य चरणों का पालन करना होगा।

 

Calibration in Hindi-

Basic procedure for Pressure Transmitter Calibration in Hindi:

प्रक्रिया से दबाव ट्रांसमीटर को अलग करें।

दबाव छोड़ने के लिए धीरे से वेंट प्लग और वेंट वाल्व खोलें।

मल्टीमीटर को ट्रांसमीटर से कनेक्ट करें और सुनिश्चित करें कि 0 दबाव होने पर आउटपुट 4ma है।

ट्रांसमीटर के लिए हाथ से पकड़े गए परीक्षण पंप (दबाव स्रोत) को कनेक्ट करें।

सुनिश्चित करें कि कोई रिसाव नहीं है।

दबाव सीमा को 0%, 25%, 50%, 75%, 100% पर लागू करें और जांच करें कि कोई त्रुटि है।

यदि कोई त्रुटि है कैलिब्रेशन किया जाना चाहिए।

85 सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिक उपकरण और उनके उपयोग

 

Calibration Hindi.

Calibration Hindi, What is Calibration in Hindi. Pressure Transmitter Calibration In Hindi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.