एशिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर जहां ठहरे थे साक्षात् भोलेनाथ..

Jatoli Shiv Mandir Solan

Jatoli Shiv Mandir Solan

भारत में और खासकर देवभुमी हिमालय में भगवान शिव के कई मंदिर हैं और इनका अपना अपना धार्मिक महत्व भी हैं। लेकिन क्या जानते हैं की हिमाचल में सोलन में स्थित हैं एशिया का सबसे उंचा शीव मंदिर हैं?

 

Table of Contents

Jatoli Shiv Mandir Solan

भगवान शिव का भव्य मंदिर सोलन के प्राकृतिक पहाड़ी पर स्थित है, जिसका नाम हैं जटोली शीव मंदिर।

जटोली शिव मंदिर सोलन के प्रसिद्ध पवित्र स्थलों में से एक है जिसकी और बड़ी संख्या में तीर्थयात्री आकर्षित होते हैं। जटोली शिव मंदिर राजगढ़ रोड पर सोलन से करीब 7 किलोमिटर दूरी पर स्थित हैं।

दक्षीण द्रवीड शैली में बना यह मंदिर कला का बेजोड़ नमूना है। मंदिर को बनने में ही करीब 39 साल का समय लगा था।

सोलन में जटोली मंदिर अपनी उत्कृष्ट वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है जो मूल रूप से इंडो-आर्यन वास्तुकला है। मंदिर में द्रविड़ शैली की झलक भी दिखाई देती हैं। मंदिर में तीन गुंबद हैं, सबसे ऊंचे गुंबद को शिखर कहा जाता है, दूसरे सर्वोच्च गुंबद को विमना कहा जाता है, और तीसरे को सबसे कम ऊंचाई वाले को त्रिशूल कहा जाता है। पहले गुंबद में, भगवान गणेश की मूर्ति हैं, जबकि दूसरे गुंबद में शेष नाग की मूर्ति है। मंदिर के तीनों गुंबद में कई प्रसिद्ध हिंदू भगवान और देवी की नक्काशी की गई है।

सोलन में जटोली मंदिर का एक और आकर्षण इसकी ऊंचाई है जो लगभग 111 फीट है, जिसे एशिया में सबसे ऊंचा माना जाता है।

मंदिर का नाम ‘जटा’ से लिया है, जो आगे भगवान शिव के लंबे जटाओं को दर्शाता है।

इस मंदिर की एक और अद्भुत बात यह हैं की यहां पत्थर को थपथपाने पर डमरू जैसी ध्वनि आती हैं I

 

History of Jatoli Shiv Mandir Solan

 Jatoli Shiv Mandir Solan

Jatoli Shiv Mandir से जुड़ी कुछ दंतकथाएं हैं, और उनमें से एक है कि पौराणिक समय में भगवान भालेनाथ यहां पर कुछ समय के लिए रुके थे। 1950 में एक सिद्ध बाबा स्वामी कृष्णानंद परमहंस यहां पर आएं। कहा जाता हैं कि यहां के लोग पानी की समस्या से जुझ रहे थे और लोगों को बहुत दूर से पानी लाना पड़ता था। इसलिए स्वामी कृष्णानंद परमहंस ने भगवान शिव की घोर तपस्या की और त्रिशूल के प्रहार से जामिन से पानी निकाला। लोगों का कहना हैं की, तब से लेकर आज तक जटोली में कभी भी पानी की कोई समस्या नहीं हुई।

बाद में उनके मार्गदर्शन पर ही इस जटोली शिव मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ। मंदिर के एक कोने में स्वामी कृष्णानंद की गुभा आज भी मौजूद हैं, जो इस तथ्य की पुष्टि करता हैं।

वर्ष 1974 में स्वामी कृष्णानंद परमहंस महाराज ने इस मंदिर की आधारशिला की थी और इसके बाद से यहां पर मंदिर निर्माण का कार्य निरंतर चलता आ रहा है। वर्ष 1983 में जब स्वामी कृष्णानंद परमहंस महाराज ने समाधि ले ली, तो बाद में इसका कार्य मंदिर प्रबंधन कमेटी देखने लगी।

इस मंदिर की खास बात यह है कि इस मंदिर के निर्माण में करोड़ों रुपए खर्च हुए और इसका निर्माण भक्तों द्वारा दिए गए दान से ही किया गया है। शायद इसलिए इस मंदिर का निर्माण पूरा होने में ही तीन दशक से भी अधिक का समय लग गया।

 

Architecture of Jatoli Temple in Solan

Jatoli Shiv Mandir Solan

भगवान शिव के इस मंदिर में आपको कला और संस्कृति का अनूठा संगम देखने को मिलेगा। मंदिर का गुंबद 111 फिट उंचा हैं, जिसके कारण ये एशिया का सबसे उंचा मंदिर हैं।

मंदिर के चारों और कई देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित की गई हैं, जबकि मंदिर के अंदर 17 लाख रुपए की लागत के स्फटिक शिवलिंग की स्थापना की गई हैं।

साथ में इस मंदिर में भगवान शिव, माता पार्वती, गणेश, कार्तिकेय और हनुमान की मूर्तियां भी स्थापित की गई हैं।

हाल ही में मंदिर के सबसे ऊपरी छोर पर 11 फुट लंबा विशाल सोने के कलश चढ़ाया गया हैं।

Jatoli Shiv Mandir में जाने के लिए आपको 100 सीढ़ियां चढ़नी होंगी। मंदिर के उत्तर-पूर्व कोने पर एक ‘जल कुंड’ है जिसे पवित्र गंगा नदी के रूप में पवित्र माना जाता है। इस टंकी के पानी में कुछ औषधीय गुण पाए जाते हैं जो त्वचा रोगों का इलाज कर सकते हैं। मंदिर के अंदर एक गुफा है जिसमें स्वामी कृष्णानंद परमहंस जी निवास करते थे।

Jatoli Shiv Mandir में भगवान शिव की एक विशाल मूर्ति है जो लकड़ी और पत्थरों से बनी है। मंदिर की छत पर एक बहुत लंबी छड़ी भी है जो पूरी तरह से सोने से बनी है।

 

Festival of Jatoli Shiv Mandir Solan

JJatoli Shiv Mandir Solan अत्यधिक मूल्यवान है और भगवान शिव को समर्पित सबसे महान मंदिरों में से एक है। जटोली शिव मंदिर सोलन के लोकप्रिय पवित्र स्थलों में से एक है। यहां शिवरात्रि व महाशिवरात्रि के मौके पर देश के सभी कोनों से भारी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

यह प्राचीन मंदिर अपने वार्षिक मेले के लिए प्रसिद्ध है, जो महाशिवरात्रि के त्योहार के दौरान आयोजित किया जाता है।

फरवरी के महीने में, मंदिर में महाशिवरात्रि उत्सव मनाया जाता है जहाँ भक्तों को ‘घोटा’ नामक पेय दिया जाता है जो दूध और चीनी का मिश्रण है।

इस मंदिर का एक मुख्य आकर्षण जागरण है जो हर फरवरी को होता है जो कई लोगों को लुभाता है। यह समारोह वर्षों से चल रहा है और बहुत बड़े पैमाने पर आयोजित किया जाता है।

लोग यहां के पानी को चमत्कारी मानते हैं और उनका यह भी मानना हैं की इस जल में किसी भी बीमारी को ठीक करने के गुण मौजूद हैं। यहां हर रविवार को भंडारा लगता हैं।

 

Famous Places around Jatoli Shiva Temple

जटोली शिव मंदिर के आसपास प्रसिद्ध पर्यटक स्थल

जटोली शिव मंदिर के आसपास कई प्रसिद्ध और प्रमुख पर्यटन स्थल हैं जहाँ आप प्राकृतिक दृश्यों का आनंद ले सकते हैं और अपने मन को प्रसन्न कर सकते हैं। जटोली आज के समय में एक खूबसूरत धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है।

यह मंदिर इतना सुंदर है कि यह हमेशा हिमाचल प्रदेश के बाहर से आने वाले लोग भी इसकी तरफ आकर्षित होते है। इस मंदिर में जाने के बाद आप इस मंदिर के आस-पास के प्रसिद्ध स्थानों पर जाना पसंद करेंगे जो है:

बौद्ध मठ सोलन, मां शूलिनी मंदिर, मोहन नेशनल हेरिटेज पार्क, डगशाई, मंकी पॉइंट कसौली, बडोग, करोल गुफा, लॉरेंस स्कूल सनावर, सुबाथू कुथार किला, अरुण किला, चायल, अमरावती हिल।

 

How To Reach Jatoli Mandir Solan

Jatoli Shiv Mandir Solan जटोली में स्थित है जो सोलन से लगभग 7 किमी दूर है। आप बस और कार द्वारा शहर से मंदिर तक पहुँच सकते हैं। बस द्वारा: आप सोलन से बस लेकर मंदिर पहुँच सकते हैं जो मंदिर से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर है। मंदिर के लिए निकटतम बस स्टॉप सोलन बस स्टैंड है।

आप ट्रेन के साथ-साथ हवाई मार्ग से भी इस स्थान तक पहुँच सकते हैं और निकटतम रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डा चंडीगढ़ में है जहाँ से यह स्थान लगभग 80 कि.मी. दूर हैं।

 

Best Hotel Near Jatoli Shiva Temple

इस मंदिर के पास कई होटल हैं जहाँ आपको स्वादिष्ट भोजन और ठहरने की सुविधा मिल सकती है। ऑनलाइन आप अपनी आवश्यकताओं के अनुसार सबसे अच्छे होटल के कमरे खोज सकते हैं। आप जटोली शिव मंदिर के पास कसौली में होटलों पर सबसे अच्छे और सस्ते सौदे पा सकते हैं और एक आसान और सुविधाजनक तरीके से ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं।

 

अंतिम शब्‍द:

इन सभी बातों को ध्यान में रखा जाए, तो जटोली शिव मंदिर देखने के लिए एक सुंदर जगह है। आपको निश्चित रूप से एशिया के सबसे बड़े और सबसे ऊंचे शिव मंदिर को अपनी ट्रैवल लिस्‍ट में शामिल करना चाहिए।

Jatoli Shiv Mandir Solan में आप पहाड़ी की चोटी तक जा सकते हैं और शहर के प्रमुख हिस्सों को देखने का आनंद ले सकते हैं और साथ ही यहां के कई खूबसूरत नजारों की तस्वीरें भी ले सकते है। Jatoli Shiv Mandir मंदिर आध्यात्मिक यात्रियों के लिए बहुत शांत और निस्तब्ध जगह के रूप में एक महान गंतव्य है।

 

Jatoli Shiva Temple Images, Pics, Wallpaper

Jatoli Shiv Mandir Solan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.