महादेवी वर्मा: आधुनिक युग की मीरा और महान भारतीय कवयित्री

Mahadevi Verma Hindi

Mahadevi Verma in Hindi

महादेवी वर्मा छायावाद युग की उत्कृष्ट लेखिका हैं, वह ऐसी परिस्थितियाँ थी जब प्रत्येक लेखक अपनी कविता में भावुकता से जुड़ते थे। उन्हें आधुनिक युग की मीरा भी अधिक बार कहा जाता है। आज हम इस प्रसिद्ध महादेवी वर्मा की चर्चा कर रहे हैं, जिन्होंने वर्ष 1982 में ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त किया।

 

Quick Facts about Mahadevi Verma

त्वरित तथ्य

नाम: महादेवी वर्मा

के रूप में भी जाना जाता है: आधुनिक मीरा

के लिए प्रसिद्ध: उपन्यासकार, कवि, लेखक, शिक्षाविद

जन्म: 26 मार्च 1907 (फर्रुखाबाद, उत्तर प्रदेश)

मृत्यु: 11 सितंबर 1987

राष्ट्रीयता: भारतीय

पुरस्कार: पद्म भूषण (1956), साहित्य अकादमी फेलोशिप (1979), ज्ञानपीठ पुरस्कार (1982), पद्म विभूषण (1988)

 

Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay

Mahadevi Varma की संक्षिप्त जीवनी

महादेवी वर्मा का जन्म 26-03-1907 को भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के फर्रुखाबाद में हुआ था। वह एक भारतीय कवि, लेखक, उपन्यासकार, लेखक, पटकथा लेखक, स्वतंत्रता सेनानी और कार्यकर्ता थीं।

 

वे मुस्काते फूल, नहीं

जिनको आता है मुरझाना,

वे तारों के दीप, नहीं

जिनको भाता है बुझ जाना!

 

Mahadevi Varma Biography in Hindi

Mahadevi Verma in Hindi – पूरी बायोग्राफी और करियर-

महादेवी का जन्म वकील के परिवार में 1907 में फर्रुखाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था। वह अपने चार भाई-बहनों में सबसे बड़ी थी।

मध्य प्रदेश के जबलपुर में उन्होंने अपनी शिक्षा पूरी की। वर्ष 1914 में सात साल की छोटी उम्र में उनकी शादी डॉ. स्वरूप नारायण वर्मा से हुई। जब तक उनके पति ने लखनऊ में अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे थे, तब वह अपने माता-पिता के साथ रहीं। इस अवधि के दौरान, महादेवी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में आगे की शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने वहां से संस्कृत में स्नातकोत्तर प्राप्त किया।

वह अपने पति से 1920 के आसपास तमकोई रियासत में कुछ समय के लिए मिलीं। इसके बाद, उन्होंने कविता में अपनी रुचि को आगे बढ़ाने के लिए इलाहाबाद का रुख किया। दुर्भाग्य से, वह और उनके पति ज्यादातर अलग-अलग रहते थे और अपने व्यक्तिगत हितों को पूरा करने में व्यस्त थे। वे कभी-कभार मिलते थे। वर्ष 1966 में उनके पति की मृत्यु हो गई। तब, उन्होंने स्थायी रूप से इलाहाबाद में स्थानांतरित होने का फैसला किया।

वह बौद्ध संस्कृति के उपदेशों से अत्यधिक प्रभावित थी। बौद्ध धर्म के प्रति उनका इतना झुकाव था की उन्होंने बौद्ध भिक्षुणी बनने का भी प्रयास किया। इलाहाबाद (प्रयाग) महिला विद्यापीठ की स्थापना के साथ, जो मुख्य रूप से लड़कियों को सांस्कृतिक मूल्यों को स्थापित करने के लिए स्थापित किया गया था, वह संस्थान की पहली मुख्याध्यापिका बनीं। इस प्रसिद्ध व्यक्तित्व का 1987 में निधन हो गया।

 

About Mahadevi Verma in Hindi

Mahadevi Varma के बारे में हिंदी में

महादेवी वर्मा एक प्रमुख महिला हिंदी कवयित्री थीं, जिन्हें छायावादी शैली की कवयित्री के रूप में जाना जाता था, जो आधुनिक हिंदी कविता में रूमानियत का साहित्यिक आंदोलन थी, जो 1914-1938 के दौरान लोकप्रिय हुई। इसके लिए, उन्हें आधुनिक मीरा के रूप में भी जाना जाता था।

Mahadevi Varma को हिंदी साहित्य के छायावादी स्कूल के चार स्तंभों में से एक माना जाता है। उनकी सबसे प्रसिद्ध रचनाओं में शामिल हैं, अतीता के चलचित्रा और स्मृति की रेखा। उनके प्रसिद्ध काव्य प्रकाशन हैं निहार, रश्मि, नीरजा और संध्या गीत। उनकी कृति सिकुड़ाला की कड़िया भारतीय महिलाओं की दुर्दशा को दर्शाती है। उनका एक और प्रसिद्ध काम था जिसका श्रेय उन्हें दिया जाता हैं; साहित्यकार का आस्था।

महादेवी वर्मा बौद्ध धर्म से बहुत प्रभावित थीं और वह बहुत ही सौंदर्यवादी थीं। उनकी कविता में एक निरंतर दर्द, अपने प्रियतम से अलग होने का दर्द, सर्वोच्च अस्तित्व है। इसके कारण उनकी तुलना कभी-कभी मीराबाई से भी की जाती है। उनकी कविता में रहस्यवाद का एक तत्व है।

उनकी कविताएँ उनसे दूर रहने वाले प्रेमी को संबोधित हैं, जबकि उनका प्रेमी काफी रहता है और कभी नहीं बोलता। अपने काम के साथ दीपशिखा, जिसमें 51 कविताएं हैं, उन्होंने हिंदी साहित्य के नए क्षेत्र- रहस्यवाद में काम किया। उन्होंने प्रसिद्ध हिंदी मासिक चांद के संपादक के रूप में भी काम किया।

महादेवी वर्मा एक समाज सुधारक भी थीं। उन्होंने भारत की महिलाओं की वकालत की। उनकी कई गद्य रचनाएँ भारतीय महिलाओं की दुर्दशा पर उनके विचारों को दर्शाती हैं। उन्हें प्रयाग महिला विद्यापीठ का पहला प्रिंसिपल नियुक्त किया गया था, जिन्होंने हिंदी माध्यम से लड़कियों को शिक्षा प्रदान करना शुरू किया।

Mahadevi Varma प्रधानाचार्य भी थीं, और तब प्रयाग महिला विद्यापीठ की कुलपति थीं; जो इलाहाबाद में एक महिला आवासीय कॉलेज है। एक शानदार कवि होने के अलावा, उन्हें एक स्वतंत्रता सेनानी, महिला अधिकार कार्यकर्ता और एक शिक्षाविद् के रूप में भी याद किया जाता है।

इलाहाबाद (प्रयाग) महिला विद्यापीठ की नींव के साथ, जो मूल रूप से युवा महिलाओं को सामाजिक गुण देने के लिए स्थापित किया गया था, वह स्थापना के प्राथमिक प्रमुख में बदल गई। महादेवी वर्मा हिंदी लेखन के छायवाड़ी स्कूल के अन्य महत्वपूर्ण कलाकारों में से एक हैं। उन्होंने आश्चर्यजनक कविता की रचना की, साथ ही साथ अपने पसंदीदा कामों के लिए प्रतिनिधित्व किया, उदाहरण के लिए, दीपशिखा और यात्रा। महादेवी वर्मा की अन्य रचनाओं की तुलना में दीपशिखा असाधारण है।

महात्‍मा गांधी के प्रभाव के कारण, Mahadevi Varma ने सार्वजनिक सेवा की प्रतिज्ञा स्वीकार की। उन्होंने महिलाओं के लिए शिक्षा और वित्तीय स्वतंत्रता के लिए कड़ी मेहनत की। बाद में, अपनी स्वयं की आय से मिला हुआ पैसा साहित्यकार सोसायटी के निर्माण में निवेश किया, जिसे साहित्यिकों  की दुर्दशा को रोकने के लिए शुरू किया गया था। 1955 में, वह साहित्यकार संसद के मुखपत्र “साहित्यकार” का संपादक भी थी। इस प्रकार उनका सामाजिक कार्य, देश कार्य शुरू था। फिर भी, वे अपने मन से स्थायी रूप से बंधी थी अपनी कविता के साथ।

 

Awards and Honours

Mahadevi Varma के पुरस्कार और सम्मान

Mahadevi Varma की रचनात्मक प्रतिभा और तीक्ष्ण बुद्धि ने जल्द ही उन्हें हिंदी साहित्य जगत में प्रमुख स्थान दिलाया। उन्हें छायावाद आंदोलन के चार स्तंभों में से एक माना जाता है। 1934 में, उन्हें अपने काम के लिए, हिंदी साहित्य सम्मेलन से सेसरिया पुरस्कार मिला। उनके कविता संग्रह (यामा -1936) को ज्ञानपीठ पुरस्कार मिला, जो सर्वोच्च भारतीय साहित्यिक पुरस्कारों में से एक है।

Mahadevi Varma को “इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र संघ” से 42 सदस्यों की सूची में “Proud Past Alumni” के साथ सम्मानित किया।

1956 में, भारत सरकार ने उन्हें भारत के तीसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया। वह 1979 में साहित्य अकादमी फैलोशिप से सम्मानित होने वाली पहली महिला थीं।

1988 में, भारत सरकार ने उन्हें दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किया

 

Mahadevi Varma’s Works:

महादेवी वर्मा की कृतियां:

गद्य

अतीत के चलचित्र

स्मृति की रेखाएँ

पथ के साथी

मेरा परिवार

साहित्यकार की आस्था

सम्भाषण

संकल्पिता

श्रृंखला की कड़िया

स्मृति की रेखाएं

 

कविता

दीपशिखा

हिमालय

नीरजा

निहार

रश्मि

सांध्य गीते

सप्तपर्ण

 

संग्रह

गीतपर्व

दृष्टिबोध

महादेवी साहित्य

परिक्रमा

सन्धिनी

स्मारिका

स्मृतिचित्र

यम

 

ललित निबंध

क्षणदा

 

गोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय और उनके असामान्य काम

Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.