रात में आकाश में अंधेरा क्यों है, इस सवाल का जवाब देना बचपन में सरल लग सकता है, लेकिन कई पीढ़ियों से यह सवाल वैज्ञानिकों को परेशान कर रहा है।

यदि ब्रह्मांड अनंत है, या इसमें विशाल संख्या में सितारें है, तो दिन के मध्य में, सूर्य के नीचे से क्यों नहीं दिखता? निश्चित रूप से सितारों के साथ रात के आकाश के हर इंच को सितारों की इतनी बड़ी संख्या कंबल ओढ़ सकते हैं?

अधिकांश वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला कि सितारों की वर्तमान संख्या – 1 बिलियन ट्रिलियन हो सकती हैं, लेकिन ब्रह्मांड के इतने बड़े विस्तार वाले आसमान को उज्ज्वल बनाने के लिए यह बहुत कम है।

लेकिन नासा के हबल स्पेस टेलीस्कॉप से इमेजेज को पुनर्मूल्यांकन करने के लिए नॉटिंघम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा 15 साल के प्रोजेक्‍ट ने पाया है कि सितारों की संख्या वास्तव में कहीं अधिक है।

वास्तव में, रात के आकाश में जीतनी आकाशगंगाएं होने का दावा किया गया था, वे उससे कम से कम दस गुना अधिक – शायद दो ट्रिलियन हैं। इसका मतलब होगा कि रात के दौरान आसमान को उज्ज्वल बनाने के लिए पर्याप्त सितारे होते हैं।

वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला है कि चूंकि ये आकाशगंगाएं इतनी दूर हैं कि उनकी स्टारलाइट इंटरगैलेक्टिक धूल और गैस द्वारा अवशोषित हो जाती है। वे यह भी मानते हैं कि ब्रह्मांड का विस्तार प्रकाश तरंगों को फैलाता है जो उनके वेवलेंथ को बढ़ाता है जिसके परिणामस्वरूप स्पेक्ट्रम के लाल छोर की तरफ बदलाव होता है और लाल रोशनी देखना मुश्किल होता है।

यह सवाल उतना आसान नहीं है जितना यह लगता है। आपको लगता है कि रात में अंतरिक्ष में अंधेरा दिखाई देता है क्योंकि वह तब होता है जब पृथ्वी पर हमारा स्‍थान सूर्य से दूसरी ओर है क्योंकि हमारा ग्रह हर 24 घंटों में एक्सिस पर घूमता है। लेकिन उन सभी दूर-दराज के सूरज के बारे में क्या जो रात के आकाश में सितारों के रूप में दिखाई देते हैं? हमारी अपनी आकाशगंगा में 200 अरब से अधिक सितारे हैं, और पूरे ब्रह्मांड में शायद 100 अरब से अधिक आकाशगंगाएं हैं। आप मान सकते हैं कि कई सितारे दिन की तरह रात को उजागर करेंगे!

20 वीं शताब्दी तक, खगोलविदों ने नहीं सोचा था कि ब्रह्मांड में सभी सितारों को गिनना भी संभव नहीं था। उन्होंने सोचा कि ब्रह्मांड अनंत हैं।

कल्पना करने के लिए बहुत मुश्किल होने के अलावा, अनंत ब्रह्मांड के साथ समस्या यह है कि चाहे आप रात के आकाश में कहीं भी हों, आपको एक सितारा देखना चाहिए। बहुत घने जंगल में एक बहुत बड़े पेड़ के तने जैसे सितारें एक दूसरे पर ओवरलैप जैसे दिखते हैं। लेकिन, अगर ऐसा हैं तो आकाश प्रकाश के साथ चमकना चाहिए।

इस समस्या ने खगोलविदों को बहुत परेशान किया और यह “ओल्बर्स” पैराडाक्स के रूप में जाना जाने लगा। पैराडाक्स वह स्‍टेटमेंट होता हैं जो खुद से असहमत लगता है।

विरोधाभास को समझाने की कोशिश करने के लिए, 19 वीं शताब्दी के कुछ वैज्ञानिकों ने सोचा था कि सितारों के बीच के धूल के बादलों को स्टारलाइट को अवशोषित करना चाहिए ताकि इनकी रोशनी हम तक पहुंच न सके। लेकिन बाद में वैज्ञानिकों ने महसूस किया कि यदि ऐसा हुआ तो धूल स्वयं ही स्टारलाइट से इतनी ऊर्जा को अवशोषित कर लेगा कि आखिरकार यह सितारों जैसा गर्म होकर चमकने लगेगा।

खगोलविद अब महसूस करते हैं कि ब्रह्मांड अनंत नहीं है। एक सीमित ब्रह्मांड – अर्थात, सीमित आकार का एक ब्रह्मांड जिसमें हैं कई ट्रिलियन सितारें जो सभी जगहों को प्रकाश देने के लिए पर्याप्त नहीं हैं।

यद्यपि ब्रह्मांड सीमित है तो रात में पृथ्वी के आकाश में अंधेरा क्यों है, अन्य कारण इसे और भी गहरा बनाते हैं।

न केवल ब्रह्मांड आकार में सीमित है, यह उम्र में भी सीमित है। यही है, यह एक शुरुआत थी, जैसा सभी के साथ होता हैं। ब्रह्मांड का जन्म लगभग 15 अरब साल पहले बिग बैंग नामक एक शानदार विस्फोट में हुआ था। यह एक पॉइंट पर शुरू हुआ और तब से विस्तार कर रहा है।

क्योंकि ब्रह्मांड अभी भी विस्तार कर रहा है, दूर के सितारों और आकाशगंगाएं हर समय दूर दूर हो रही हैं। हालांकि कुछ भी प्रकाश से फास्‍ट ट्रैवल नहीं करता, फिर भी प्रकाश के लिए किसी भी दूरी को पार करने में समय तो लगता है। इसलिए, जब खगोलविद एक लाख प्रकाश वर्ष दूर आकाशगंगा को देखते हैं, तो वे उस आकाशगंगा देख रहे हैं जो दस लाख साल पहले वहां पर थी। असल में इस आकाशगंगा की रोशनी आज हमारी आंखों की यात्रा करने से कहीं अधिक दूर होगी जो कि दस लाख साल पहले या यहां तक ​​कि एक साल पहले भी छोड़ी गई थी, क्योंकि उस आकाशगंगा के बीच की दूरी और हम लगातार बढ़ते हैं। इसका मतलब है कि दूर के सितारों से हम तक पहुंचने वाली प्रकाश ऊर्जा की मात्रा हर समय घट जाती है।

Why Sky Dark At Night Hindi.

Why Sky Dark At Night Hindi, Why Sky Dark At Night in Hindi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.