क्यों आप आसानी से चेहरा याद कर सकते हैं … लेकिन नाम नहीं

Why You Can Easily Remember Face But Not Name Hindi

यह हम सभी के साथ हुआ है: जब हम किसी शादी या पार्टी में जाते हैं या राह चलते हुए जब कोई अचानक हमारे सामने आ जाता हैं, तो हमे उसके चेहरे को पहचानते हैं पर नाम याद नहीं आता। ऐसे में हम उनका नाम लेने के लिए पूरी तरह से बचते हैं।

बुरा मत मानो! जब चेहरों और नामों को लिंक करने की बात आती है, तो परिस्थिति विकासवादी, न्यूरोनाटॉमिकल और व्यावहारिक दृष्टिकोण से हमारे खिलाफ हो जाती है।

यदि आपको किसी पार्टी या सम्मेलन में लोगों के नाम याद रखने में कठिनाई होती है, तो आप अकेले नहीं हैं।

 

चेहरों में बहुत सारी जानकारी होती है

क्‍या आपने कभी इसके बारे में सोचा हैं कि जैसे ही आप किसी को देखते हैं, तो एक ही नज़र में आप किसी व्यक्ति की आयु, लिंग, जाति, मनोदशा, मित्रता, आदि को बता सकते हैं।

आपके दिमाग में चेहरे की पहचान करने के लिए फ्यूसिफार्म जीरस नाम का एक समर्पित क्षेत्र होता है। अध्ययन से पता चला हैं, कि जब कोई सामने वाले के चेहरे को देखता है, तो यह भाग सक्रिय होता है। जिन लोगों में इस fusiform gyrus को नुकसान पहुंचता हैं, तो वे चेहरों को पहचानने की क्षमता खो देते हैं।

 

नाम में क्‍या रखा हैं?

याद रखने के लिए, चेहरे के विपरित नाम में उनके शब्‍दों के अलावा बहुत कुछ नहीं है। (जब तक वह नाम कुछ अजीब न हो।)

 

दिमाग नाम को आमतौर पर लॉंग-टर्म मेमोरी में नहीं रखता

“उचित नामों, विशेष रूप से लोगों के नामों को सीखने और याद रखने की क्षमता, अन्य प्रकार के शब्दों के सापेक्ष प्रत्यक्ष रूप से अधिक कठिन है”

तथ्य यह है कि उचित नाम याद रखने के लिए बहुत मुश्किल हैं, हमें मानव मेमोरी के कामकाज के बारे में बहुत कुछ सिखा सकते हैं।

अन्य प्रकार के शब्दों के विपरीत, नाम अर्थहीन लेबल होते हैं जो आमतौर पर उस व्यक्ति के बारे में कोई भी जानकारी नहीं बताते जिसे वे संदर्भित करते हैं। उदाहरण के लिए, जब टेबल शब्‍द बोला जाता हैं, तो आपके सामने टेबल की इमेज आ जाती हैं। लेकिन, संतोष नाम से आपके दिमाग में कुछ भी दृश्य जानकारी नहीं जाती की वह वास्तव में कैसा दिखता है।

Why You Can Easily Remember Face But Not Name Hindi

शोध ने यह भी दिखाया है कि उस व्यक्ति के जीवन संबंधी तथ्यों की तुलना में किसी व्यक्ति के नाम को एक्‍सेस करना अधिक कठिन होता है। इसलिए, यदि आप आनंद नाम से किसी से मिलें हैं, जो हमेशा आनंदित रहता हैं तो उसके नाम को याद रखना आसान हैं।

ऐसे कई फैक्‍टर हैं जो निर्धारित करते हैं कि कौन से शब्दों को हम आसानी से याद रख सकते हैं, और कौन से हमारी मेमोरी से फिसल जाते हैं। कुछ मामलों में, नामों के युनिक साउंड कंपोनेंट उन्हें याद रखने में कठीन बनाते हैं।

नाम की तरह, अनियमित इनफॉर्मेशन को अल्पकालिक से दीर्घकालिक मेमोरी तक ट्रैवल करने के लिए, इसे आमतौर पर दोहराया जाना चाहिए या विशेष रूप से नोट किया जाना चाहिए। अगर उनमें भावना हैं या वे आपके लिए महत्वपूर्ण हैं तो कुछ चीजें इसे स्किप कर सकती हैं। किसी नाम को याद रखने का एकमात्र गारंटेड तरीका इसका अभ्यास करना है।

जब आप पहली बार किसी से मिलते हैं, तो आप आमतौर पर विनम्र बात चीत में शामिल होने जा रहे हैं। जितना अधिक आप किसी के साथ बातचीत करते हैं, तो प्रत्येक मिटिंग में आपको उनका नाम याद रखना आवश्यक होता है, और बाद में आपको उनका नाम याद करने में प्रयास नहीं करना पड़ता।

 

लॉंग-टर्म मेमोरी दृश्य जानकारी पसंद करती है

शॉर्ट टर्म मेमोरी कर्ण-संबंधी है। यह शब्दों और अन्य ध्वनियों के प्रोसेसिंग पर ध्यान केंद्रित करने में व्यस्त होती है। यह गुणवत्ता इसलिए है क्‍योकि आपके अपने मन में चल रही आंतरिक बातचीत और जो सोच रहे वह चित्रों के बजाय शब्दों और वाक्यों में होता हैं। नाम भी एक श्रव्य जानकारी है।

इसके विपरीत, आपकी लॉंग-टर्म मेमोरी में ज्यादातर दृश्य इमेजेज होती है, जो ध्वनियों के विपरीत शब्दों का अर्थ होते है। एक चेहरे की तरह रिच विज़ुअल उत्तेजना, किसी के नाम को बनाने वाली आवाज़ों की तुलना में याद रखने की संभावना अधिक होती है।

 

आपके मस्तिष्क में एक दो-स्तरीय मेमोरी पुनर्प्राप्ति सिस्‍टम है

यहां तक ​​कि अगर आपकी लॉंग-टर्म मेमोरी, किसी का नाम याद रखने को मैनेज करती है, तो यह युद्ध का केवल आधा हिस्सा है। आपको अभी भी इसे याद करने में सक्षम होना चाहिए।

विज्ञान से पता चलता है कि आपका दिमाग परिचितता (मान्यता) और याद के बीच अंतर करता है। आपका मस्तिष्क कुछ या किसी ऐसे व्यक्ति को लेबल करता है जिसे आपने परिचित होने से पहले सामना किया है। परिचितता वैसी है जैसा कि आप जानते हैं कि आपके कंप्यूटर पर एक फ़ाइल मौजूद है। इसी तरह, आपके मस्तिष्क को यह जानने के लिए मेमोरी को सक्रिय करने की आवश्यकता नहीं है। विकासशील रूप से यह कौशल एक महत्वपूर्ण हैं क्योंकि अगर कुछ परिचित हैं, तो इसका मतलब है कि आप उनसे पहले मिले हैं।

 

तो नाम को कैसे याद रखें?

अगर कोई ऐसा व्यक्ति है जिसके नाम को आपको वास्तव में याद रखने की ज़रूरत है, तो आपको अपने दिमाग में एक इमेज बनानी चाहिए जो उनके नाम से उनके बारे में जो कुछ पता चला है उससे जोड़ता है, आदर्श रूप से एक असाधारण या हास्यास्पद इमेज का कॉम्बिनेशन। तो, उदाहरण के लिए, यदि आप प्रकाश से मिलते हैं, और आपको एक ऐसी इमेज की कल्‍पना करना चाहिए कि उस व्‍यक्‍ती के चेहरे पर दिव्‍य रोशनी पड़ रहीं हैं। यह मेथड आपको अगली बार प्रकाश से मिलने पर नाम याद करने में मदद करेगी।

इस मेथड का अभ्यास करें और अब आपको किसी शादी या अन्य पार्टी में शर्मिंदा होने की आवश्यकता नहीं होगी।

 

Why You Can Easily Remember Face But Not Name Hindi.

Why You Can Easily Remember Face But Not Name Hindi, Why You Can Easily Remember A Face But Not Names in Hindi. How to remember names in Hindi.

यह पोस्ट आपको कैसे लगी?

इसे रेट करने के लिए किसी स्टार पर क्लिक करें!

औसत रेटिंग / 5. कुल वोट:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.